- व्यापार

कृषि में बिजली समस्या के समाधान के लिए अलग फीडर बनाया जा रहा है: मुख्यमंत्री

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज यहां कहा कि कृषि में लगातार लागत बढ़ रही है। उस एवज में किसानों को उपज का उचित मूल्य नहीं मिल पाता है, लिहाजा कृषि में तकनीक का इस्तेमाल कर लागत कम करने के साथ ही उपज बढ़ायी जा सकती है। उन्होंने कहा कि इसी को ध्यान में रखते हुए झारखंड सरकार किसानों को नयी तकनीक व आधुनिक खेती की जानकारी के लिए इजराइल भेज रही है। ये किसान वहां से खेती की नये तरीके सीख कर झारखंड के किसानों को भी प्रशिक्षित करेंगे। उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इजराइल जानेवाले किसानों के दूसरे जत्थे में शामिल 21 किसानों को संबोधित करते हुए कहीं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। पारंपरिक खेती से यह संभव नहीं है। कृषि के साथ साथ बागवानी, दुग्ध उत्पादन, मत्स्य पालन, फल-सब्जी उत्पादन को बढ़ावा देना जरूरी है। झारखंड में सब्जी का उत्पादन बड़ी मात्रा में होता है। मुख्यमंत्री ने किसानों को को-ऑपरेटिव बनाने के सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि राज्य में बड़ी संख्या में 30 मैट्रिक टन क्षमता के कोल्ड स्टोरेज बन रहे हैं। इनके संचालन का काम भी किसानों की को-ऑपरेटिव को दिया जायेगा।

दास ने बताया कि किसानों की बिजली की समस्या के समाधान के लिए सरकार कृषि के लिए अलग फीडर बना रही है। अगले साल से यह काम करना शुरू करेगा। इससे किसानों को खेती के लिए प्रतिदिन छह घंटे बिजली मिलेगी। इजराइल जाने वाली टीम का नेतृत्व दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार करेंगे।

About buland khabar

Read All Posts By buland khabar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *