बेगानी शादी में दीवाने अब्दुलाल की तरह नाच रही है कांग्रेस -भाजपा

राज्य

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने  कहा है कि नई दिल्ली में आम आदमी पार्टी की जीत पर कांग्रेस द्वारा भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण का आरोप मढऩा समझ से परे है। भाजपा ने कहा कि कांग्रेस को अपने राजनीतिक पराभव के इस निम्नतम स्तर तक पहुँचने के बाद भी इस बात का मलाल नहीं है कि वह लगातार दूसरी बार दिल्ली विधानसभा में शून्य पर टिकी है और 50प्रतिशत तक मत लेकर 15 वर्षों तक दिल्ली में शासन करने वाली कांग्रेस आज अपने 63 उम्मीदवारों की जमानत जब्त होने और महज चार फीसदी वोट लेकर बेगानी शादी में दीवाने अब्दुल्ला की तरह बगलें बजाकर नाच रही है। पराजय से ज्यादा शर्मनाक राजनीतिक प्रदर्शन तो कांग्रेस अब कर रही है।
भाजपा प्रवक्ता उपासने ने कहा कि रास्वसं व भाजपा पर साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण का आरोप लगाने से पहले कांग्रेस को अपना गिरेबाँ झाँकने की जरूरत है। जिस पार्टी ने 60 वर्षों तक देश पर शासन किया, वह राजनीतिक आत्महत्या की कीमत पर भाजपा को रोकने की जिस रणनीति पर काम कर रही थी, उसका ही यह नतीजा है कि आपा आज दिल्ली में जीत का जश्न मना रही है। साम्प्रदायिक तुष्टिकरण की राजनीति करके भाजपा को रोकने की रणनीति के तहत कांग्रेस दिल्ली के चुनावी दंगल में पीछे हटी और आँकड़े व तथ्य इस बात का साफ संकेत कर रहे हैं कि मुस्लिम वोटों के साथ ही कांग्रेस के मतदाता भी आपा की ओर झुक गये। शायद इसलिए दिल्ली महिला कांग्रेस अध्यक्ष समीष्ठा मुखर्जी ने कांग्रेस नेता पी चितम्बरम के ट्वीट का जवाब देते हुए पूछा है कि क्या कांग्रेस को अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए?
श्री  उपासने  ने कहा कि भाजपा का मतदाता तो डटा रहा लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस के वोट आपा को ट्रांसफर करवाए। कांग्रेस शुरू से ही वहाँ आपा की पिछलग्गू बनकर चुनाव मैदान में महज इसलिए मौजूद थी कि उसकी मौजूदगी से आपा को फायदा पहुँचता। राजनीतिक विश्लेषक भी मान रहे हैं कि कांग्रेस यदि राजनीतिक ईमानदारी के साथ चुनाव लड़ती तो आआपा को नुकसान होता और भाजपा की सम्भावना बढऩे के साथ-साथ कांग्रेस भी राजनीति के मैदान में ताकत के साथ फिर खड़ी होती। लेकिन भाजपा को रोकने के लिये कांग्रेस ने अपने वर्षों के राजनीतिक प्रभुत्व को दाँव पर लगाकर आने वाले कई वर्षों तक के लिये अपनी सम्भावनाओं को खत्म कर दिया।
भाजपा प्रवक्त श्री उपासने ने कहा कि कांग्रेस ने अपने राजनीतिक अस्तित्व को दाँव पर लगाकर जिस विचारहीन नेतृत्व का परिचय दिया है, वह उसका अपना अन्दरूनी मामला है लेकिन अपनी राजनीतिक विफलता को ढँकने की शर्मनाक कोशिश करके भाजपा को साम्प्रदायिक धु्रवीकरण के लिये आरोपित करना पूरी तरह गलत है और भाजपा कांग्रेस के इस मत को सिरे से खारिज करती है। श्री  उपासने ने कहा कि भाजपा देश के मतदाताओं को खाँचों में बाँटकर उनके राजनीतिक इस्तेमाल में विश्वास नहीं रखती। देश का हर नागरिक, हर मतदाता भाजपा के लिये सबसे पहले भारतीय है और भारतीय होने के नाते हर नागरिक के लोकतान्त्रिक अधिकारों के विवेकसम्मत प्रयोग व निर्णय की रक्षा भाजपा अपना राजनीतिक दायित्व मानती है। उपासने  ने कहा कि टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ खड़े होकर, अर्बन नक्सलियों को मदद पहुँचाकर कौन अलगाववादी-आतंकवादी ताकतों को मजबूत करने वाली पाकिस्तान की भाषा बोल रहा है, यह पूरा देश देख रहा है और समझ भी रहा है। साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण की जो गन्दी तस्वीर दिल्ली में कांग्रेस और आआपा समेत शेष विपक्ष ने पेश की है, कांग्रेस अब खुद को इस नकाब के उतरने से बचाने की हास्यास्पद कोशिशों में जुटी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *