मधुमक्खिया भी साथियों का अंतिम संस्कार करती है!

अजीब दुनिया
(bulandkhabar)मनुष्यों में मृतकों के अंतिम संस्कार की प्रथाओं से तो हम अच्छी तरह से परिचित हैं लेकिन एक ताज़ा अध्ययन से पता चला है कि श्रमिक मधुमक्खियों में एक ऐसा वर्ग होता है जो अपने मृत साथियों का अंतिम संस्कार करता है। दिलचस्प बात है कि ये अपने मृत साथियों को अंधेरे में भी ढूंढ लेते हैं – 30 मिनट से ही कम समय में।
इसको समझने के लिए चाइनीज़ एकेडमी ऑफ साइंस के ज़ीशुआंग बन्ना ट्रॉपिकल बॉटेनिकल गार्डन के वेन पिंग ने सोचा कि शायद एक विशिष्ट गंध-अणु होता होगा जो शहीद मधुमक्खियों को खोजने में मदद करता होगा। दरअसल चींटियां, मधुमक्खियां और अन्य कीट क्यूटीक्यूलर हाइड्रोकार्बन (सीएचसी) नामक यौगिकों से ढंके होते हैं। यह मोमी परत इन जीवों की त्वचा को सूखने से बचाती है। जीवित कीट में ये पदार्थ हवा में लगातार छोड़े जाते हैं। इन्हीं की मदद से छत्ते के सदस्यों की पहचान की जाती है।
वेन ने अनुमान लगाया कि मरने के बाद जब उनके शरीर का तापमान कम हो जाता है, तब मधुमक्खियां हवा में काफी कम मात्रा में फेरोमोन छोड़ती होंगी। जब रासायनिक तरीकों से परीक्षण किया गया तो पता चला कि मृत, कम तापमान वाली मधुमक्खियां अपने जीवित साथियों की तुलना में कम सीएचसी का उत्सर्जन करती हैं।
अब अगला प्रयोग यह जानना था कि क्या गंध में परिवर्तन को जीवित मधुमक्खियां जान पाती हैं। इसके लिए वेन ने एशियाई मधुमक्खी (Apis cerana) के पांच छत्तों का अध्ययन किया। वेन ने पाया कि जब सामान्य मृत ठंडी पड़ चुकी मधुमक्खियों को रखा गया तब श्रमिक मधुमक्खियों ने 30 मिनट से भी कम समय में उन्हें वहां से हटा दिया। लेकिन जब उन्होंने मृत मधुमक्खियों के शरीर को गर्म करना शुरू किया तब श्रमिक मधुमक्खियों को अपने मृत साथियों को ढूंढने में घंटो लग गए। बायोआर्काइव्स में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार ऐसा शायद इसलिए हुआ क्योंकि एक मृत गर्म मक्खी, एक जीवित मक्खी के लगभग बराबर सीएचसी का उत्सर्जन करती है।
अपने इस अध्ययन को और पक्का करने के लिए वेन ने मृत मधुमक्खियों का सीएचसी हेक्सेन से साफ कर दिया जिससे उनकी त्वचा पर मौजूद तेल और मोम को हटाया जा सके। इसके बाद उन्होंने इन मक्खियों को उनके जीवित साथियों के तापमान तक गर्म किया और उन्हें वापस छत्ते में रख दिया। उन्होंने पाया कि अंतिम संस्कार करने वाली श्रमिक मधुमक्खियों ने आधे घंटे के अंदर इस तरह साफ किए गए अपने 90 प्रतिशत मृत साथियों को वहां से हटा दिया। इससे मालूम चलता है कि न केवल तापमान बल्कि सीएचसी की अनुपस्थिति भी मृतक की पहचान में उपयोगी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *