घरों में सिमट कर रहने के अनेक फायदे : शहनाज हुसैन

ब्यूटी टिप्स

लॉकडाउन आपको जिन्दगी का सबसे लम्बा, तनावपूर्ण और ऊबाऊ समय लग रहा होगा। लेकिन वास्तव में यह शरीर को फिट रखने, अपनी सौंदर्य जरूरतों को सही परिप्रेक्ष्य में लाने और नए मेकअप प्रचलन को अपना कर अपनी त्वचा और बालों को निखारने का सबसे उचित समय है।
अब जबकि पूरी दुनिया एक संकट के दौर से गुजर रही है और लोगों की जिन्दगी अपने घरों तक ही सिमट कर रह गई है तो इस समय कुंठित होने की बजाय सामाजिक दूरी बनाए रखने के साथ ही स्वास्थय, ऊर्जा, सकारात्मकता तथा अपने मनोबल को ऊंचा रखने की अत्याधिक जरूरत है।
घरों में सिमट कर रहने के अनेक फायदे हैं। मसलन आप कहीं नहीं जा रहे हैं और ना ही आपके घर में पड़ोसियों, मेहमानों की दस्तक हो रही है बल्कि आप पूरी तरह एकांतचित्त होकर अपने व्यक्तित्व, सौंदर्य पर ध्यान दे पा रहे हैं। घर में रहते हुए सूर्य की गर्मी, प्रदूषण, धूल, गन्दगी आदि से भी आप बचे रहते हैं। यह आपकी आन्तरिक, बाहरी सुन्दरंता निखारने का सबसे उपयुक्त समय है। आप भागदौड़ भरी जिन्दगी में अपने सौंदर्य प्रसाधनों की उपयोगिता पर ध्यान नहीं दे पातीं और कामचलाऊ व्यवस्था पर चलती रहती हैं। लेकिन यह अपने सौंदर्य प्रसाधनों को त्वचा की आवश्यकताओं के अनुरुप जांचने परखने का समय है। यह समय नए सौंदर्य प्रसाधनों की उपयोगिता परखने का भी सही समय है।
एवोकाडो फेस मास्क चेहरे को पोषित करने, त्वचा में यौवनता लाने के लिए बेहतर फेस मास्क माना जाता है। इस फल में आयरन, कैल्शियम, पोटाशियम, कॉपर, मैगनिशियम आदि त्वचा उपयोगी घटक विद्यमान होते हैं। एक एवोकाडो फल के बीज निकालकर इसे मसलकर इसमें एक चम्मच शहद और थोड़ा सा ताजा दही मिलाकर इसका पेस्ट बनाकर इसे चेहरे और शरीर के खुले भागों पर 15 मिनट तक लगाने के बाद ताजे सामान्य पानी से धो डालिए। इसके नियमित सेवन से त्वचा में नयापन, यौवनता, निखार और आर्कषण उभर कर बाहर आएगा। इस पेस्ट को बनाने के लिए केवल पका हुआ फल ही उपयोग कीजिए और इससे बने पेस्ट को लगाने से पहले इसे आधा घण्टा तक फ्रिज में जरूर रखें।
अगर आप घर से बाहर भी नहीं निकलतीं लेकन तब भी वायु में विद्यमान प्रदूषण, वातावरण में गर्मी से बायु में नमी में कमी आदि अनेक कारणों से आपकी त्वचा पर विपरीत असर पड़ रहा है। अगर आप घर की चारदीवारी में रह रही हैं तो भी आपका त्वचा की रक्षा के लिए सनस्क्रीन जरूर लगाना चाहिए। लॉकडाउन में घर में रहते हुए शरीर के सभी खुले भागों पर सनस्क्रीन का लेप जरूर लगाएं।
त्वचा में झुर्रियों को रोकने के लिए सनस्क्रीन अत्याधिक जरूरी मानी जाती है। घर में रहते हुए भी अगर आप खिड़की के नजदीक बैठती हैं तो भी सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों से आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है क्योंकि खिड़की की ग्लास हालांकि ज्यादातर यूवी किरणों को रोक पाता है लेकिन फिर भी सभी किरणों को प्रभावी रूप से नहीं रेाक पाता। सनस्क्रीन का उपयोग मात्र गर्मियों के दिनों तक ही सीमित न रखें। एक ताजा वैज्ञानिक अनुसंधान में यह पाया गया है कि सामान्य दिनों में हर मौसम में रेत 25 प्रतिशत सूर्य की किरणों को परिवर्तित करती है जबकि बर्फ 80 प्रतिशत सूर्य किरणों को परिवर्तित करती है। सनस्क्रीन को शरीर के सभी खुले भागों में आहिस्ता से मलिए। यह भी न भूलें कि सूर्य की गर्मी से होठों की त्वचा में भी कालिमा आ जाती है और इसके लिए आपको सनस्क्रीन मिश्रित लिपबाम लगाना चाहिए। हमेशा 30 या ज्यादा एसपीएफ क्षमता की सनस्क्रीन लगाएं तांकि वह सनबर्न, हैनिंग आदि सभी त्वचा की समस्याओं का समाधान प्रदान कर सके। यह भी ध्यान रखें कि आपकी सनस्क्रीन पानी में न घुलती हो तांकि वह पसीने या नहाते बार पानी से न घुल जाएं।
लॉकडाउन में अपने बालों की सुन्दरता के प्रति भी हमेशा सचेत रहें। इस दौरान नहाने के बाद बालों को प्रकृतिक तौर पर सामान्य वातावरण में ही सूखने दें। क्योंकि आपको घर पर ही रहना है और दफ्तर आदि जाने की कोई जल्दबाजी नहीं है। बालों को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर्स, कर्लिंग आयरन, आदि से परहेज़ करें क्योंकि इन उपकरणों के उपयोग से बालों के टूटने, सूखने और खराब होने का खतरा बढ़ जाता है।
अपने बाल धोने के बाद तौलिए की मदद से हल्के से सुखाइए और लकड़ी की कंघी की मदद से बालों को सीधा कर लीजिए। गीले बाल जल्दी टूट जाते हैं। आप जब घर पर हैं और आपके पास पर्याप्त समय उपलब्ध है। नहाने के पानी की बाल्टी में दो चम्मच शहद डालकर नहाने से शरीर में ताजगी का अहसास होता है। पानी की बाल्टी में दो चम्मच सिरका डालने से शरीर में दाद, खाज, खुजली की समस्या से निदान मिलता है। पानी में कुछ बूंदे इत्र डालने से शरीर में ठण्डक और सुगन्ध का अहसास होता है। अगर आपकी त्वचा शुष्क है तो पानी की बाल्टी में बादाम का तेल डालकर नहाने से त्वचा मुलायम होगी। हमेशा यह ध्यान रखें कि आपका नहाने का पानी सामान्य तापमान पर होना चाहिए। ज्यादा गर्म या ठण्डा पानी त्वचा को नुकसान दे सकता है। अपने शरीर को स्पंज/लूफा से सक्रब करें। इससे त्वचा को संतुलित रखने और त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद मिलती है जिससे शरीर का शुद्धिकरण हो जाता है अपने पैरों, घुटनों, कोहनी जैसे भागों पर विशेष ध्यान दें जहां त्वचा अपेक्षाकृत ज्यादा सख्त होती है। यदि आपकी त्वचा शुष्क है तो बेबी साबुन या ग्लीसरीन साबुन काफी उपयोगी होगा। नहाने के बाद जब त्वचा में नमी बरकरार हो तो माइसचराइजिंग लोशन लगा लें। इससे त्वचा में नमी बनी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *