राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव मुख्यमंत्री ने जनता के नाम लिखा आभार पत्र

छत्तीसगढ़
रायपुर, 30 दिसंबर 2019/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने राजधानी रायपुर में 27 से 29 दिसम्बर तक आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के सफल आयोजन के लिए प्रदेशवासियों का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने जनता के नाम लिखे आभार पत्र में कहा है- मेरे प्यारे प्रदेशवासियों!
छत्तीसगढ़ में तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का महाआयोजन आप सबके सहयोग से सफल रहा। इस आयोजन ने ना केवल मुझे बल्कि पूरे प्रदेशवासियों को गौरवान्वित होने का मौका दिया। मैं यह पत्र आप सभी लोगों का आभार व्यक्त करने के लिए लिख रहा हूं। जब हमने आदिवासी संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए इस नृत्य महोत्सव के आयोजन की कल्पना की थी, तो मन में कई आशंकाएं थी, लेकिन मुझे बेहद खुशी है कि आप सब ने मिलकर सभी आशंकाओं को निर्मूल साबित किया है। इस आयोजन की सफलता के बाद हमने सभी की सहमति से यह निर्णय लिया है, कि अब प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन राज्योत्सव के साथ किया जाएगा। यह पहला अवसर था, जब छत्तीसगढ़ में देश-विदेश के कलाकारों ने एक साथ मंच साझा किया। इस महोत्सव में बड़ी संख्या में आदिवासी कलाकारों ने अपनी कला और संस्कृति को नृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में 6 देशों सहित 25 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों के कलाकार एक साथ जुटे। हम सबको देश-विदेश की जनजाति संस्कृतियों को करीब से जानने का अवसर मिला। यह महोत्सव हमारे देश की मूल पहचान ‘विविधता में एकता‘ का प्रतीक बनकर उभरा है। देश-विदेश के कलाकारों ने जिस तन्मयता से अपनी प्रस्तुति दी है। उसकी अमिट छाप हमारे दिलों में लंबे समय तक बनी रहेगी। इस आयोजन को सफल बनाने हेतु आप सब सर्वाधिक आभार के पात्र इसलिए हैं, क्योंकि आप सब की मेजबानी से देश और विदेश के आए हुए कलाकार छत्तीसगढ़वासियों के मुरीद होकर गए हैं। आप सब ने जिस प्रकार से अपनी उपस्थिति से कलाकारों का उत्साहवर्धन किया है। इसके लिए आप सब धन्यवाद के पात्र हैं। हमारे पत्रकार साथियों ने इस आयोजन की खबरों को उन लोगों तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई, जो इस कार्यक्रम में स्वयं शामिल नहीं हो सके, उनका आभार युवा दोस्तों ने सोशल मीडिया के जरिए, कार्यक्रमों को लाइव के जरिए, फोटो और वीडियो के जरिए, जिस प्रकार से देश-विदेश में कोने-कोने तक पहुंचाया। इसके लिए मैं उन युवा मित्रों को भी धन्यवाद देता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *