सरकार बड़ी-बड़ी डींगें भर हाँक रही, जबकि ज़मीनी सच कांग्रेस सरकार के निकम्मेपन को साबित कर रहा – भाजपा

राज्य
रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों और कोरोना संक्रमितों के इलाज में बरती जा रही लापरवाही को लेकर राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला है।  साय ने कहा कि प्रदेशभर से कोरोना संक्रमण और उसके इलाज की बदइंतज़ामी की आ रहीं ख़बरें न केवल चिंताजनक हैं, अपितु प्रदेश सरकार के नाकारापन को जगज़ाहिर करने वाली हैं। प्रदेश सरकार संवेदनहीन होकर कोरोना संक्रमितों के साथ-साथ आम मरीजों के इलाज में भी हो रही दिक्कतों को नज़रंदाज़ कर रही है। जन-स्वास्थ्य के साथ क्रूर खिलवाड़ करने वाली प्रदेश सरकार सत्ता में रहने का अधिकार खो चुकी है।  साय ने धमतरी में कोरोना का उपचार करने के दौरान मृत डॉक्टर के परिजनों को एक करोड़ रुपए की राशि देने की मांग भी की है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  साय ने कहा कि राजधानी में 298 समेत प्रदेशभर में कोरोना के रिकॉर्ड 1136 मामले एक ही दिन में आने के बाद यह आईने की तरह साफ हो चला है कि प्रदेश में कोरोना की रोकथाम की राज्य सरकार बड़ी-बड़ी डींगें भर हाँकती रही है जबकि ज़मीनी सच्चाई यही है कि प्रदेश की यह कांग्रेस सरकार पूरी तरह निकम्मी साबित हुई है और आँकड़े भी साबित कर रहे हैं कि कोरोना की जाँच के मामले में छत्तीसगढ़ काफी पिछड़ा हुआ है। साय ने कहा कि क्वारेंटाइन सेंटर्स तो नारकीय यंत्रणा के पर्याय बने हुए हैं ही, अब तो 79 दिनों में 207 लोगों की मौतें होना इस बात का प्रमाण है कि कोविड-19 सेंटर्स भी बदइंतज़ामी के चलते बदहाल हो चले हैं। इन कोविड सेंटर्स तक में भर्ती मरीजों के भागने और आत्महत्या कर लेने की वारदातों पर भी प्रदेश सरकार को ज़रा भी शर्म महसूस नहीं हो रही है और अब भी वह झूठे दावे करके अपने मुँह मियाँ मिठ्ठू बनने में लगी है। कोविड सेंटर्स की इसी बदहाली के चलते जांजगीर-चाँपा ज़िले के ग्राम मुलमुला में ग्रामीणों ने कोरोना संक्रमितों को इलाज के लिए अस्पताल नहीं ले जाने दिया और वहाँ पुलिस व डॉक्टर्स की टीम को दौड़ाकर भगाने की दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  साय ने कहा कि कोरोना काल में पूरे प्रदेश का हाल बेहाल है। प्रदेशभर में सरकारी दावों की पोल खुलती जा रही है, कहीं डॉक्टर्स लापरवाही दिखा रहे हैं तो कहीं सारे ऑक्सीजन सिलेंडर्स खाली होने के कारण मरीज तड़प रहे हैं। संवेदनहीनता की पराकाष्ठा तो यह है कि सामान्य रूटीन के इलाज में भी डॉक्टर्स ध्यान नहीं दे रहे हैं। महासमुंद ज़िला अस्पताल में पेट दर्द से पीड़ित 13 वर्षीय बालक की मौत के बाद बालक की माँ सीढ़ी पर बालक के शव के पास घंटों बैठकर शव के पोस्टमार्टम का इंतज़ार करती रही और अस्पताल के सारे डॉक्टर्स संसदीय सचिव विनोद चंद्राकर की मौज़ूदगी में हो रहे कोरोना वॉरियर्स के सम्मान में व्यस्त और मस्त थे। धमतरी के ज़िला अस्पताल में भी भर्ती दो मरीजों के कोरोना पॉज़ीटिव मिलने के बाद वहाँ के स्वास्थ्य कर्मियों ने इन मरीजों के साथ संवेदनहीनता की पराकाष्ठा कर दी। चलने-फिरने में असमर्थ मरीज को व्हील चेयर पर बिठाकर धूप में छोड़ दिया गया। इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों ने खुलकर अपशब्दों की झड़ी तक लगा दी। आख़िरकार शाम को रायपुर ले जाते हुए रास्ते में ही इस मरीज की मौत हो गई। बिलासपुर में तो डॉक्टर्स ने कोरोना संक्रमित मरीज की मृत्यु के बाद उसके परिजनों को पीपीई किट देकर अंतिम संस्कार के लिए ले जाने को कह दिया जबकि नियमत: यह काम ज़िला प्रशासन, नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के अमले को करना था।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  साय ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना वॉरियर्स के सम्मान के नाम पर भी काफी शोर मचा रही है जबकि भाजपा शुरू से यह मांग करती आ रही है कि प्रदेश सरकार कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ जारी ज़ंग में जुटे डॉक्टर्स समेत सभी कोरोना वॉरियर्स का बीमा कराए। प्रदेश सरकार ने इस पर अब तक कोई सार्थक पहल नहीं की है, जबकि दिल्ली समेत कई राज्यों में इस दिशा में काम हुआ है। पदस्थापना के दौरान ड्यूटी पर डॉक्टर की मृत्यु होने पर कई राज्य सरकारें मृतक के परिजनों को एक करोड़ रुपए की राशि प्रदान कर रही हैं। इसी तरह प्रदेश सरकार हाल ही  ड्यूटी कर रहे डॉक्टर की मृत्यु के बाद उनके परिजनों को एक करोड़ रुपए की राशि प्रदान करे।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  साय ने कहा कि राजनीतिक शिगूफेबाजी में मस्त सरकार प्रदेश में मचे हाहाकार को सुनने को तैयार नहीं है, सच्चाई देखने की उसे फुर्सत नहीं है और नेतृत्वहीनता से जूझ रही सरकार ने कोरोना के सामने घुटने टेक दिए हैं। सोमवार को भी भिलाई के कोविड अस्पताल से एक और मरीज के भाग जाने की घटना और राजधानी में कोरोना से मृत कांकेर के व्यक्ति का अंतिम संस्कार रायपुर में करने को लेकर अधिकारियों की टालमटोल बता रही है कि प्रदेश सरकार कोरोना को लेकर ज़रा भी गंभीर नहीं है।  साय ने कहा कि कोरोना संक्रमण की शुरुआत से ही प्रदेश सरकार अपनी बदनीयती, कुनीतियों और नेतृत्वहीनता के चलते हर मोर्चे पर बुरी तरह विफल रही है। एक तरफ कोविड-19 की गाइडलाइन के उल्लंघन में सत्तारूढ़ दल और सरकार में बैठे लोग कोई क़सर बाकी नहीं छोड़ रहे हैं जबकि शराब के लिए खुली छूट देने वाली सरकार के सारे नियम-क़ानून केवल आम लोगों पर ही आजमाए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *