भूखंड के आस-पास मंदिर से वास्तु दोष, क्या करें उपाय जानें…

धर्म
पं. देवनारायण शर्मा, वास्तु सलाहकार
वास्तु प्रवास : 29 अगस्त को सिलियारी प्रवास पर
94252 07282, 83199 44101
वास्तु शास्त्र के अनुसार घर ,दुकान ,फेक्टरी या भूखंड के आस पास मन्दिर ,मस्जिद ,चर्च ,गुरुद्वारा ,शमशान घाट, विवाह घर, हास्पिटल, स्कूल, कालेज या सामाजिक भवन का होना अच्छा नही मानते इसकी क्या वजह हो सकता है आइये आज इसकी तार्किक जांच पड़ताल करें –
वैसे तो मंदिर जाने से मन को शांति मिलती है। मंदिर वो स्थान है जहां से व्यक्ति को आत्मिक शांति के साथ ही सुख-समृद्धि भी मिलती है। लेकिन वास्तु के अनुसार घर के आसपास मंदिर का होना शुभ नहीं माना जाता है।
1) मंदिर – मंदिर के अंदर लगातार पूजा ,प्रार्थना होने से मंदिर के आस पास का वातावरण आध्यात्मिक हो जाता है तो जो लोग पूर्णत: आध्यात्मिक जीवन जी रहे हैं उनको यही मंदिर परमात्मा तक पहुचने में मदद कर सकता है लेकिन जिनका भौतिक जीवन है जो लोग काम धाम से ही फुर्सत नही पा रहे हैं ,जो पारिवारिक जीवन जी रहे हैं उनको अत्यधिक उर्जा से दूर रहना चाहिए । आज जब हम काम कर रहे हैं तो झूट ,प्रपंच ,लाभ हानी ,द्वेष से भरे हुए हैं —–इमानदारी से बताएं धनवान लोग कितना इनकम टेक्स ,सेल टेक्स की चोरी करने की तरह तरह की विधियाँ विकसित करते रहते हैं ,इसे में अधिक उर्जा का वातावरण रोजमर्रा की उर्जा से मेच नही करता ,शायद कालान्तर में इसी लिए मन्दिर ,मस्जिद ,चर्च या गुरूद्वारे के पास भूखंड खरीदने से मना किया जाता रहा है । सामान्यत: जो लोग मन्दिरों के आस पास निवास करते हैं उनका पारिवारिक जीवन करीब करीब नष्ट हो जाता है !!
2) हास्पिटल – हास्पिटल के आस पास जब लोगों को निरंतर मरते हुए देखते हैं तो आस पास निवास करने वालों को एक प्रकार का वैराग्य होने लगता है ,मन में ऐसा विचार आता है की जब अंत में मरना ही है तो फिर हाय हाय करने की जरूरत ही क्या है, और कंही न कही तरह तरह के रोगों से आस पास के लोगों में संक्रमण का खतरा बना रहता है!!
3). विवाह घर ,सामाजिक भवन – शादी ब्याह ,सामाजिक बैठकों का जो शोर गुल होता है उससे गृहस्वामी को रात में आराम नही मिलता ,बच्चों को स्पीकर की आवाज में आप पढने की उम्मीद केसे कर सकते हैं । आपके घर के ठीक सामने जब कोई अपनी गाड़ी पार्क करेगा तो क्या दिन भर आप उनसे लड़ते रहेंगे …? गाड़ी पार्क करने वाला तो दूसरी जगह पार्क कर लेगा लेकिन आपका तो पूरा दिन ख़राब हो गया।
4) स्कूल – बच्चों का दिन भर का हल्ला , आपके घर के ठीक सामने जब कोई छात्र अपनी गाड़ी पार्क करेगा तो क्या दिन भर आप उनसे लड़ते रहेंगे …? गाड़ी पार्क करने वाला तो दूसरी जगह पार्क कर लेगा लेकिन आपका तो पूरा दिन ख़राब हो गया। छुट्टी के समय लोगों का भीड़—उफ़ ………..? —-क्या करें
5) शमशान घाट – जब लोगों को निरंतर मरते हुए देखते हैं तो आस-पास निवास करने वालों को एक प्रकार का वैराग्य होने लगता है, मन में ऐसा विचार आता है की जब अंत में मरना ही है तो फिर हाय-हाय करने की जरूरत ही क्या है, इससे व्यापार, नौकरी में आपकी रूचि समाप्त होने लगती है, और कही न कही शव के जलने से संक्रमण का खतरा बना रहता है इसी लिए शमशान घाट से आने के बाद नहाने का विधान है – लोगों की निरंतर भीड़, रात को बच्चों के डरने की सम्भावना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *