- छत्तीसगढ़

भाजपा चाहती ही नहीं कि नगरीय निकाय चुनाव हो सके। शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर/11 सितंबर 2019। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि नगरीय निकाय चुनाव को भाजपा के उच्चस्तरीय प्रतिनिधी मंडल द्वारा की गयी मांगो से स्पष्ट है कि भाजपा चाहती ही नहीं कि नगरीय निकाय चुनाव हो सके। भाजपा नगरीय निकाय चुनावों में हार से भयभीत है। भाजपा जब सत्ता में थी, भारतीय जनता पार्टी ने 2014 में भी नगरीय निकाय चुनाव न होने देने की पूरी ताकत लगायी थी। नगरीय निकाय चुनाव नहीं होने देने के लिये भाजपा ने 2014 में भी जी जान का जोर लगाया था। नगरीय निकाय चुनाव नहीं कराने से भाजपा सरकार के फैसले के खिलाफ कांग्रेस पार्टी के नेता महापौर प्रमोद दुबे, राम गिडलानी, मलकीत सिंह गेंदु, सर्वोच्च न्यायालय गये थे। सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश के कारण ही छत्तीसगढ़ में नगरीय निकाय निर्वाचन संभव हुआ और उसमें कांग्रेस को जर्बदस्त जन समर्थन मिला। छत्तीसगढ़ में स्थानीय निकाय के चुनावों में नगर निगमों, नगर पालिकाओं और नगर पंचायतो में कांग्रेस की जर्बदस्त जीत हुयी थी। भाजपा 2014 की ही तरह छत्तीसगढ़ में स्थानीय निकाय के चुनाव को रोकने फिर से साजिश कर रही है। आज निर्वाचन गये भाजपा के प्रतिनिधी मंडल की मांगों से स्पष्ट है कि भाजपा नगरीय निकाय चुनावों में हार की संभावना से बुरी तरह से भयभीत है। भाजपा नहीं चाहती कि छत्तीसगढ़ में नगरीय निकाय चुनाव उल्लेखनीय है कि चुनाव टालने के लिये ही इस तरह की मांगे भाजपा के उच्च स्तरीय प्रतिनिधी मंडल द्वारा सामने रखी गयी है। 


भारतीय जनता पार्टी के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधी मंडल आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी स्थानीय निकाय चुनाव के लिये है उनसे मिला और भारतीय जनता पार्टी ने चार मांगे की है। भारतीय जनता पार्टी ने एक और मतदाता सूची में दावा आपत्ति की तिथी बढ़ाने की मांग की है दूसरी और फिर से मतदाता सूची बनाने की मांग की है। भारतीय जनता पार्टी ईवीएम के चुनाव कराने की मांग कर रही है और परिसीमन को फिर से कराने की मांग की है।

About buland khabar

Read All Posts By buland khabar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *